Stock Split क्या है, और क्यों होता है फायदे और नुकसान की पूरी जानकारी

Share Market Investment Tips : इस हफ्ते ये 5 शेयर करेंगे आपको मालामाल, बोनस शेयर और स्टॉक स्प्लिट से जमेगा रंग

अगर आप शेयर बाजार (Stock Market) में पैसा लगाते हैं, तो आपको इस हफ्ते 4 शेयरों पर फोकस करना चाहिए। ये चार शेयर आपको अच्छा रिटर्न दे सकते हैं। इसका कारण है कि इनमें बोनस इश्यू (Bonus Issue) और स्टॉक स्प्लिट (Stock Split) की घोषणा हुई है। इन कंपनियों ने इस हफ्ते योग्य शेयरधारकों के लिए बोनस शेयर और स्टॉक स्प्लिट की रिकॉर्ड डेट फिक्स की आईआरसीटीसी स्टॉक और शेयर स्प्लिट है। 1:1 बोनस इश्यू के तहत कंपनी प्रत्येक पुर्णतया चुकता शेयर के लिए अपने शेयरधारकों को एक नया बोनस शेयर प्रदान करती है। जबकि 1:2 स्टॉक स्प्लिट का मतलब है कि कंपनी का 10 रुपये फेस वेल्यू वाला इक्विटी शेयर 5 रुपये की फेस वेल्यू वाले दो इक्विटी शेयरों में बंट जाएगा। बोनस शेयर में कंपनी शेयरधारकों को उनके शेयरों की संख्या के आधार पर फ्री में अतिरिक्त शेयर प्रदान करती है। वहीं, स्टॉक स्प्लिट में आपके पास मौजूद शेयर्स ही छोटे आकार के शेयरों में डिवाइड हो जाते हैं। इसमें शेयरों की संख्या बढ़ जाती है, लेकिन आपके पोर्टफोलियो की वैल्यू नहीं बदलती है।

इन शेयरों में बोनस इश्यू और स्टॉक स्प्लिट से उठाएं फायदा

1. अल्स्टोन टेक्सटाइल (इंडिया) लिमिटेड (Alstone Textiles India Ltd)

इस कंपनी ने 9:1 के अनुपात में बोनस इश्यू और 10 रुपये से 1 रुपये में स्टॉक स्प्लिट की घोषणा की है। अल्स्टोन टेक्सटाइल ने एक रेगुलेटरी फाइलिंग में कहा, 'कंपनी के वे सदस्य जिनके नाम 14 दिसंबर तक कंपनी की रिकॉर्ड बुक में होंगे, वे इस बोनस आईआरसीटीसी स्टॉक और शेयर स्प्लिट इश्यू और स्टॉक स्प्लिट के पात्र होंगे।' इस शेयर के लिए एक्स बोनस और एक्स स्प्लिट की तारीख 14 दिसंबर है। अल्स्टोन टेक्सटाइल का शेयर सोमवार को 4.99 फीसदी या 8.50 रुपये की गिरावट के साथ 161.80 पर बंद हुआ। शुक्रवार को भी इस शेयर में 4.99 फीसदी की गिरावट दर्ज हुई थी। इस शेयर का बाजार पूंजीकरण 206 करोड़ रुपये है। इस स्टॉक ने साल 2022 में अब तक करीब 655 फीसदी का मल्टीबैगर रिटर्न दिया है।

2. ग्लोस्टर लिमिटेड (Gloster Ltd)

कंपनी ने 1:1 के अनुपात में बोनस इश्यू की घोषणा की है। कंपनी ने अपनी एक रेगुलेटरी फाइलिंग में कहा था, 'कंपनी ने बोनस इश्यू के लिए शनिवार 17 दिसंबर को रिकॉर्ड डेट रखी है।' इस बोनस इश्यू में शेयरधारकों को उनके पास मौजूद प्रत्येक 10 रुपये फेस वैल्यू वाले शेयर पर एक अतिरिक्त शेयर मिलेगा। इस स्टॉक की एक्स बोनस तारीख 16 दिसंबर होगी। ग्लोस्टर लिमिटेड का शेयर सोमवार को 1.08 फीसदी या 19.20 रुपये की बढ़त के साथ 1798.40 रुपये पर बंद हुआ।

3. स्टार हाउसिंग फाइनेंस (Star Housing Finance)

स्टार हाउसिंग फाइनेंस 1:1 के अनुपात में बोनस शेयर जारी करेगा। इसके बाद 10 रुपये से 5 रुपये में स्टॉक स्प्लिट करेगा। बोनस इश्यू और स्टॉक स्प्लिट के लिए योग्य शेयरधारक तय करने की प्रक्रिया में कंपनी ने रिकॉर्ड डेट 16 आईआरसीटीसी स्टॉक और शेयर स्प्लिट दिसंबर तय की है। स्टार हाउसिंग फाइनेंस का शेयर सोमवार को 0.88 फीसदी या 1.85 फीसदी गिरकर 209.50 पर बंद हुआ।

4. लैंसर कंटेनर लाइन्स (Lancer Container Lines)

इस कंपनी ने अपनी रेगुलेटरी फाइलिंग में 10 रुपये से 5 रुपये में स्टॉक स्प्लिट की घोषणा की है। इसमें कंपनी के 10 रुपये फेस वैल्यू वाले प्रत्येक शेयर दो 5 रुपये फेस वैल्यू वाले शेयरों में डिवाइड हो जाएंगे। स्टॉक स्प्लिट के लिए रिकॉर्ड डेट और एक्स-स्प्लिट डेट 16 दिसंबर तय हुई है। लैंसर कंटेनर लाइन्स का शेयर सोमवार को 1.98 फीसदी या 9.05 रुपये की गिरावट के साथ 448 रुपये पर बंद हुआ।

5. सीएल एजुकेट (CL Educate)

इस कंपनी ने 1:1 के अनुपात में बोनस इश्यू की घोषणा की है। रेगुलेटरी फाइलिंग में कंपनी ने कहा, 'हम 1:1 के अनुपात में बोनस इश्यू की घोषणा करते हैं। इसमें शेयरधारकों को उनके पास मौजूद 5 रुपये फेस वैल्यू वाले प्रत्येक शेयर पर 5 रुपये फेस वैल्यू वाला एक अतिरिक्त शेयर मिलेगा।' इस बोनस इश्यू के लिए 16 दिसंबर रिकॉर्ड डेट फिक्स हुई है। सीएल एजुकेट का शेयर सोमवार को 2.30 फीसदी या 3.70 रुपये बढ़कर 164.30 रुपये पर बंद हुआ।

आईटीसी लि.

समाप्ति तिमाही 30-09-2022 के लिए, कंपनी द्वारा रिपोर्टेड संगठित बिक्री - Rs 19062.68 करोड़ है, 1.34 % ऊपर, अंतिम तिमाही की बिक्री-Rs 18810.आईआरसीटीसी स्टॉक और शेयर स्प्लिट 18 करोड़ से, और 24.49 % ऊपर पिछले साल की इसी तिमाही की बिक्री - Rs 15313.15 करोड़ से| नवीनतम तिमाही में कंपनी का Rs 4670.32 करोड़ का रिपोर्टेड टैक्स पश्चात शुद्ध मुनाफा है|

IRCTC and IEX shares rebound ahead of bonus issue and share split

New Delhi: Much to the relief of investors the shares of IRCTC and Indian Energy Exchange (IEX) surged again on Tuesday. IRCTC shares closed at Rs 4214 (NSE) apiece which is around to 4.76% higher from Monday evening close. Shares of IEX closed at Rs 742 (NSE) apiece which is around 6.15% higher from Monday evening close that was Rs 699 apiece. IRCTC board has announced a stock split in the ratio of 1:5 to enhance the liquidity in the capital market, widen the shareholder base and make the shares affordable to small investors. The Railways PSU has आईआरसीटीसी स्टॉक और शेयर स्प्लिट set October 29, 2021, as its record date for sub-division of equity shares of Rs 10 each into five equity shares of Rs 2 each.

IRCTC shares hit an all-time record high of Rs 6,369 on October 19. The stock had been a consistent performer, giving stellar returns, since it made its debut in October 2019. However, the stock struggled to keep up with its rally in the past few sessions. IRCTC came under pressure last week after it was placed under the F&O ban list. While the stock is out of the ban list, the volatility is still at the higher side, say the market experts.

IEX is the premier electricity exchange in India, which facilitates the trading of electricity. It commands a market share of around 95% in the power exchange market. The energy exchange's stocks have been in focus after announcing the bonus shares issue along with its second-quarter earnings. For the past year, IEX has remained richly valued given its clean balance sheet, near-monopoly and bright future prospects.

IEX board has recommended a bonus issue of equity shares in the proportion of 2:1, subject to the approval of shareholders. The record date for the bonus issue is yet to be announced.

On October 22 the energy exchange had posted a nearly 75 percent jump in consolidated net profit at Rs 77.38 crore for the September quarter, mainly on the back of higher revenues.

(PSU Watch– India's Business News centre that places the spotlight on PSUs, Bureaucracy, Defence and Public Policy is now on Google News. Click here to follow. Also, join PSU Watch Channel in your Telegram. You may also follow us on Twitter here and stay updated.)

Stock Split क्या है, और क्यों होता है ? फायदे और नुकसान की पूरी जानकारी

आज कल समाचार में ऐसी ख़बरें आ रही है की IRCTC की Stock Split होने वाली है। वैसे लोग जो बहुत दिनों से शेयर बाज़ार से जुड़े हुए हैं उन्हें तो इस बात की पूरी जानकारी होगी। लेकिन अगर आप इस चीज़ में नए हो तब आपको इस चीज़ को समझने में थोड़ी सी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन आपको परेशान होने की बिलकुल भी जरुरत नहीं है।

Stock Split क्या है, और क्यों होता है फायदे और नुकसान की पूरी जानकारी

Stock Split क्या है, और क्यों होता है फायदे और नुकसान की पूरी जानकारी

लेख में आप जानेंगे की यह Stock plit आखिर होती क्या है? Stock Split काम कैसे करती है? इसके पीछे का कारण और साथ ही आपको बोनस के तौर पर यह बताया जाएगा की Reverse Stock Split क्या होता है?

लेख में मौजूद सामग्री

Stock Split क्या होता है?

Stock Split किसी बड़ी कंपनी या कॉर्पोरेट द्वारा की गयी कार्यवाई है, जिसमे कंपनी अपने मौजूदे शेयर को कई शेयरों में विभाजित करती है। इस प्रक्रिया को इसलिए अपनाया जाता है ताकि एक शेयर की कीमत मौजूदा कीमत से कम हो और अधिक से अधिक लोग कंपनी के शेयर में निवेश कर सकें और इस माध्यम से कंपनी अधिक फंड्स इकट्ठी कर सके।

इस प्रक्रिया को किसी भी कंपनी द्वारा तब अपनाया जाता है जब कंपनी के एक शेयर की कीमत बहुत ज़्यादा हो जाती है और इसमें निवेशक निवेश करने में थोड़ा कतराते हैं। उदाहरण के तौर पर अगर देखा जाए तब कोई भी निवेशक 100 रूपए के 10 शेयर खरीदने के बजाय, 10 रूपए का 100 खरीदने में ज़्यादा सहज महसूस करता है।

Stock Split क्यों किया जाता है?

पहला कारण: चाहे आपके गली में एक छोटा दुकानदार हो या फिर कोई कॉर्पोरेट हर एक बिजनेसमैन की एक ही कोशिश होती है की किसी तरह वो ग्राहक को या कहे निवेशकों को लुभा सके और निवेशक आकर आपकी कंपनी में निवेश कर सकें। Stock Split करने का सबसे बड़ा कारण भी यही है की शेयर की कीमतों को कम करके ज़्यादा से ज़्यादा निवेशकों को अपनी ओर आकर्षित करना।

उदाहरण के तौर पर अगर देखा जाए तब आप बाजार में किसी मिठाई को 1000 रूपए प्रति किलो में खरीदने में सक्षम न हो लेकिन वहीं अगर मिठाई की कीमत को 100 रूपए कर दी जाए तब इसे केवल आप ही नहीं आपके जैसे अन्य लोग भी खरीद सकेंगे।

दूसरा कारण: जब किसी कंपनी के पास स्टॉक्स ज़्यादा होते हैं तब उसमे लिक्विडिटी भी ज़्यादा होती है और जब लिक्विडिटी ज़्यादा होती है तब निवेशकों और ट्रेडरों को ट्रेडिंग करने के दौरान खरीद बिक्री में काफी आसानी होती है।

क्या Stock Split होने पर वैल्यूएशन कम हो जाती है?

जी नहीं, किसी भी कंपनी के Stock को जब Split किया जाता है तब उस कंपनी की वैल्यूएशन कम नहीं होती बल्कि एक शेयर के कई टुकड़े होते हैं और उन सभी शेयर को टुकड़ों को मिलाने पर जो कीमत निकल कर आती है वह Stock Split होने के समय कीमत के बराबर ही होती है।

उदाहरण के तौर पर अगर देखा जाए तब मान लीजिये आपके पास किसी कंपनी के 100 शेयर हैं और एक शेयर की कीमत 10 रूपए है, तब आपका कुल निवेश होता है 100 शेयर * 10 रूपए = 1000 रुपये का। अगर कंपनी के प्रबंधन में शामिल लोग यह फैसला लेते ही की Stock को 2:1 में Split किया जाएगा, तब ऐसे हालात में आपके पास मौजूद 100 शेयर अब 200 हो जाएंगे और ऐसे में एक शेयर की कीमत पहले जो 10 रूपए थी वह अब 5 रूपए की हो जाएगी। Stock Split होने के बाद भी आपका निवेश अब भी 200 शेयर * 5 रूपए= 1000 रूपए की ही रहेगी।

Stock Split होना अच्छा है या बुरा?

अगर आपने ने उस कंपनी में निवेश किया हुआ है जिसमे Stock Split होने वाले आईआरसीटीसी स्टॉक और शेयर स्प्लिट हैं तब आपको बता दें की इससे आपको एक ज़रा भी प्रभाव नहीं पड़ेगा और खुलकर कहें तब इससे आपको जरा भी फर्क नहीं पड़ेगा। वहीँ अगर आप उसी कंपनी के और कुछ स्टॉक्स को खरीदना चाहते हैं तब आपको यहाँ फायदा होगा क्यूंकि अब आपको वह शेयर बाकियों के साथ-साथ कम कीमत पर मिलेगी।

Reverse Stock Split क्या है?

किसी भी Stock को Split करने के बाद उस स्टॉक को वापस प्रूव स्तिथि में किये जाने की प्रक्रिया को Reverse Stock Split कहते हैं। साधारण भाषा में अगर सहने की कोशिश की जाए तब यह Stock Split के बिलकुल उलट की जाने वाली प्रक्रिया है। जब कोई कंपनी या कॉर्पोरेट इस प्रक्रिया से गुज़रती है तब उसमे शेयरों की संख्या घट जाती है।

इनसब के साथ ही शेयर की कीमत भी Reverse Split के अनुसार बढ़ जाती है। Stock Split की तरह ही इसमें भी कंपनी के मार्किट वैल्यू के साथ-साथ निवेशकों के निवेश में बिलकुल भी बदलाव नहीं होता।

Stock Split क्या है? वीडियो 2021 में

अंतिम शब्द

इस लेख में आपने शेयर बाजार में इस्तेमाल होने वाले शब्द Stock Split के बारे में जाना। जिसमे आपने जाना की Stock Split क्या होता है? इसे क्यों किया जाता है? और अंत में आपने बोनस के तौर पर Reverse Stock Split के बारे में भी जाना। लेख से सम्बंधित किसी प्रकार की शंका या कोई विचार आपके मन आईआरसीटीसी स्टॉक और शेयर स्प्लिट में हो तब निचे कमेंट कर हमें अवश्य बतलायें, धन्यवाद।

Stock Split क्या है?

किसी भी कंपनी के एक शेयर को एक से दो या फिर एक से तीन या मनचाहे हिस्सों में तोड़ने की प्रक्रिया को ही Stock Split के नाम से जाना जाता है।

आकाश कुमार एक Tech-Enthusiast और एक Electronics and Communications Engineering Graduate हैं, और इनका Passion है ब्लॉगिंग करना और लोगो तक सही एवं शटीक जानकारी पहुँचाना। अपने फ्री समय में ये Spotify में गाना सुनना पसंद करते हैं।

अब छोटे निवेशकों की पहुंच में होगा IRCTC का शेयर, हुआ स्टॉक स्प्लिट

अब छोटे निवेशकों की पहुंच में होगा IRCTC का शेयर, हुआ स्टॉक स्प्लिट

भारतीय रेलवे की कैटरिंग शाखा IRCTC ने छोटे निवेशकों तक अपनी पहुंच बनाने और मौजूदा शेयरधारकों के आधार को और बड़ा करने के लिए अपने स्टॉक को 1:5 के अनुपात में विभाजित करने की घोषणा की है। फिलहाल स्टॉक स्प्लिट पर निर्णय रेल मंत्रालय की मंजूरी के अधीन है और यहां से हरी झंडी मिलने के बाद इसे लाने में और तीन महीने का समय लग सकता है। आइये, इस बारे में विस्तार से जानते हैं।

क्या होता है शेयर स्प्लिट?

यह कंपनी के मौजूदा शेयरधारकों को उनके शेयरों के कुल कीमत को कम किए बिना ज्यादा शेयर जारी करने का एक तरीका है। इससे शेयरों की कुल कीमत तो उतनी ही रहती है, लेकिन प्रति शेयर दाम कम हो जाते हैं और शेयरों की संख्या बढ़ जाती है। ज्यादातर कंपनियां इस तरह का स्प्लिट मार्केट में लिक्विडिटी को बढ़ाने के लिए करती हैं। इनमें सबसे आम स्प्लिट 2:1 या 3:1 का है।

कैसे आईआरसीटीसी स्टॉक और शेयर स्प्लिट होगा IRCTC का स्टॉक स्प्लिट?

नए स्टॉक स्प्लिट के अनुसार, IRCTC के 10 रुपये के फेस वैल्यू वाले एक इक्विटी शेयर को अब 2 रुपये के फेस वैल्यू वाले पांच शेयरों में बांटा जाएगा, जिससे छोटे और मंझोले शेयरधारक भी IRCTC के शेयर को खरीदने में सक्षम हो सकेंगे।

खबर से आया शेयर में उछाल

स्टॉक स्प्लिट की घोषणा के बाद शेयर 2,605 रुपये के निचले स्तर से लगभग 3.6 प्रतिशत बढ़कर 2,728 रुपये के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। वहीं सेगमेंट वाइज बात करें तो पिछले साल की तुलना में केटरिंग सेगमेंत में रेवेन्यू 37 प्रतिशत गिरकर 56 करोड़ रुपये हो गया, पिछले साल यह रेवेन्यू 89 करोड़ रुपये था। बता दें कि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर पिछली बार शेयर 4.7 फीसदी की तेजी के साथ 2,693 रुपये पर कारोबार कर रहा था।

जून तिमाही में IRCTC को हुआ है लाभ

IRCTC ने जून तिमाही में 82 करोड़ रुपये का मुनाफा दर्ज किया है। इस लाभ के बाद ही IRCTC ने मार्केट में लिक्विडिटी को बढ़ाने का निर्णय लिया है। अगर पिछले साल की बात करें तो कंपनी को समान अवधि में 24 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था, जबकि इस साल मार्च तिमाही में 103 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था। ऑपरेशन सेगमेंट में भी IRCTC का जून तिमाही में मुनाफा 85.4 प्रतिशत बढ़कर 243 करोड़ रुपये हो गया है।

रेटिंग: 4.39
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 516