Rajya Sabha Election

Rajya Sabha Election 2022: राज्यसभा के सदस्यों को कौन और कैसे चुनता है, क्या होती है क्रॉस वोटिंग? जानिए सबकुछ

Rajya Sabha Election 2022: राज्यसभा में महाराष्ट्र, राजस्थान, कर्नाटक और हरियाणा की 16 सीटों पर मतदान होना है. महाराष्ट्र से कुल छह राज्यसभा सांसदों का चुनाव होना है.

Rajya Sabha Election

Rajya Sabha Election

अपूर्वा राय

  • नई दिल्ली,
  • 09 जून 2022,
  • (Updated 09 जून 2022, 12:46 PM IST)

राज्यसभा चुनावों की वोटिंग एक गैर विधायी गतिविधि है

राज्यसभा चुनाव के लिए दस जून को चार राज्यों में मतदान

राज्यसभा चुनाव के लिए दस जून को चार राज्यों में 16 सीटों के मतदान होना है. पहले 15 राज्यों में 57 सीटों पर चुनाव होना था लेकिन नामांकन वापसी के अंतिम दिन 41 सदस्य निर्विरोध चुन लिए गए. राज्यसभा चुनावों में क्रॉस वोटिंग की आशंका जताई जा रही है. आखिर क्या होती है क्रॉस वोटिंग, क्यों राज्यसभा चुनावों में यह बड़ी मुसीबत बन रही है आइए जानते हैं.

क्रॉस वोटिंग बन रही बड़ी मुसीबत

राज्यसभा में महाराष्ट्र, राजस्थान, कर्नाटक और हरियाणा की 16 सीटों पर मतदान होना है. महाराष्ट्र से कुल छह राज्यसभा सांसदों का चुनाव होना है. राजस्थान में चार, कर्नाटक में चार, हरियाणा में दो सीटों पर मतदान होना है. इस बीच कुछ पार्टियां रिसॉर्ट पॉलिटिक्स भी खेल रही हैं. यानी अपने विधायकों को रिसॉर्ट में रखा है ताकि वे किसी के झांसे में न आएं. पार्टियों को हॉर्स ट्रेडिंग और क्रॉस वोटिंग का डर भी सता रहा है.

क्या होती है क्रॉस वोटिंग

राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग कोई नई बात नहीं है. जब भी कोई एमपी एमएलए अपनी पार्टी के विरूद्ध जाकर विपक्षी पार्टी के नेता को वोट करता है तो उसे क्रॉस वोटिंग कहा जाता है. आसान भाषा में समझें तो मान लीजिए भाजपा का कोई विधायक कांग्रेस के विधायक को वोट कर दे.

कैसे होता है राज्यसभा सदस्यों का चुनाव

राज्यसभा सदस्यों का चुनाव बैलेट पेपर से होता है. राज्यसभा चुनाव में विधायक को अपना वोट पार्टी के प्रतिनिधि के तौर पर मौजूद विधायकों को दिखाकर ही मतपेटी में डालना पड़ता है. यानी जब भी कोई एमपी या एमएलए अपना वोट डालने जाते हैं, उस वक्त पार्टी का एक प्रतिनिधि वहां मौजूद रहता है. अगर एमपी या एमएलए ने अपना वोट बिना दिखाए ही डाला है तो इसे अवैध माना जाता है. वहीं निर्दलीय विधायक अपना मत किसी एजेंट को दिखाए बिना भी डाल सकता है.

सुप्रीम कोर्ट में कुलदीप नैयर ने ओपन बैलेट वोटिंग को गोपनीयता के आधार पर चैलेंज किया था. 22 अगस्त 2006 सुप्रीम कोर्ट में छह जजों की बेंच ने इसे खारिज कर दिया. कोर्ट का कहना था कि राज्यसभा चुनावों की तुलना आम चुनावों से नहीं की जा सकती. क्योंकि आम चुनावों का वोटर किसी भी दल का प्रतिनिधि नहीं होता है. वह निष्पक्ष होकर किसी भी दल के नेता को वोट कर ट्रेडिंग के लिए Cross सकता है. कोर्ट ने इस फैसले में ओपन बैलेट प्रणाली को भी सही ठहराया था.

सांसद या विधायक अपनी मर्जी से पार्टी के हित के खिलाफ नहीं जा सकते. पार्टी इसके लिए व्हिप ट्रेडिंग के लिए Cross जारी करती है. विधायक पार्टी व्हिप के खिलाफ नहीं जा सकते हैं. लेकिन चुनाव आयोग ने कहा है कि पार्टी अपने उम्मीदवार को अपने पक्ष में वोट डालने के लिए बाध्य करने के लिए व्हिप जारी नहीं कर सकती.

क्रॉस वोटिंग होने पर पार्टियां क्या कर सकती हैं?
अगर जांच में साबित होता है कि उनकी पार्टी के किसी विधायक ने क्रॉस वोट किया है तो पार्टी उस एमएलए के नाम का खुलासा कर सकती है. उसे पार्टी से निकाल या निलंबित कर सकती है लेकिन उसकी सदस्यता बनी रहेगी. पार्टी उसे अयोग्य ठहराने की कार्रवाई नहीं कर सकती. यही वजह है कि क्रॉस वोटिंग होती है, राजनीतिक पार्टियां पैसे देकर एमएलए की खरीद फरोख्त करती रही हैं. क्रॉस वोटिंग किसी भी तरफ हो सकती है. दूसरे सियासी दल अपने उम्मीदवार को जिताने के लिए अन्य दलों के विधायकों को प्रलोभन देते रहते हैं.

राज्यसभा सांसदों को विधायकों (जनता द्वारा चुने प्रतिनिधि) द्वारा अप्रत्यक्ष चुनाव के माध्यम से चुना जाता है. इसमें एक विधायक एक बार ही वोट कर सकता है. राज्यसभा में प्रत्येक सदस्य का कार्यकाल 6 साल का होता है. राज्यसभा में हर दो साल में एक तिहाई सीटों पर चुनाव होता है. संविधान के अनुच्छेद 80 में राज्यसभा के सदस्यों की अधिकतम संख्या 250 निर्धारित की गई है, जिसमें 12 सदस्य राष्ट्रपति द्वारा नामित किए जाते हैं.

दिवाली के दिन शाम 6.15 से 7.15 तक होगी मुहूर्त ट्रेडिंग

नई दिल्ली। घरेलू शेयर बाजार (domestic stock market) में इस साल दिवाली के दिन (day of diwali) यानी 24 अक्टूबर को शाम 6:15 बजे से लेकर शाम 7:15 बजे के बीच मुहूर्त ट्रेडिंग (Muhurta Trading) की जाएगी। 24 अक्टूबर को शाम 6 बजे प्री ओपनिंग सेशन शुरू होगा और 6:08 पर समाप्त हो जाएगा। मुहूर्त ट्रेडिंग में मैचिंग का समय शाम 6:08 से 6:15 बजे तक का होगा। हालांकि कॉल ऑप्शन में ट्रेड मॉडिफिकेशन (Trade Modification in Call Option) शाम 7:45 बजे खत्म हो जाएगा।

शेयर बाजार की परंपरा के मुताबिक दिवाली के दिन सामान्य दिनों की तरह दिन के वक्त ट्रेडिंग नहीं की जाएगी, लेकिन शाम को मुहूर्त ट्रेडिंग के लिए स्टॉक एक्सचेंज विशेष रूप से एक घंटे के लिए खोले जाएंगे।

यह भी पढ़ें | साल 2023 में कौन सा त्‍यौहार कब पड़ेगा? होली से लेकर दिवाली तक, यहां देखें पूरी लिस्‍ट

उल्लेखनीय है कि दिवाली के दिन शेयर बाजार में भी छुट्टी होती है। अन्य दिनों की तरह सुबह 9.15 बजे से शेयरों की खरीद बिक्री नहीं की जाती है। लेकिन शाम को मुहूर्त ट्रेडिंग के तहत 1 घंटे के लिए शेयरों का न केवल सौदा होता है, बल्कि मूहूर्त ट्रेडिंग सत्र के दौरान ही शेयर बाजार में की गई सभी लिवाली और बिकवाली का सेटलमेंट भी किया जाता है।

जानकारी के मुताबिक दिवाली के दिन कमोडिटी डेरिवेटिव्स सेगमेंट में भी मुहूर्त ट्रेडिंग का सत्र 6:15 बजे से शुरू होगा और शाम 7:15 बजे खत्म हो जाएगा। इसमें ट्रेड मॉडिफिकेशन शाम 7:25 बजे तक उपलब्ध होगा।इसी तरह करेंसी डेरिवेटिव सेगमेंट के लिए भी मुहूर्त ट्रेडिंग का समय शाम 6:15 बजे से 7:15 बजे तक का तय किया गया है। करंसी डेरिवेटिव्स और आईआरडी में भी ट्रेड मॉडिफिकेशन शाम 7:25 तक ही उपलब्ध रहेगा। क्रॉस करेंसी डेरिवेटिव्स में भी ट्रेड मॉडिफिकेशन शाम 7:25 तक ही उपलब्ध होगा। ट्रेड कैंसिल करने का अनुरोध शाम 7:30 बजे तक किया जा सकेगा। सिक्योरिटीज लेंडिंग एंड बॉरोइंग (एसएलबी) सेगमेंट में भी दिवाली की मुहूर्त ट्रेडिंग शाम 6:15 बजे से शाम 7:15 बजे तक होगी। (एजेंसी, हि.स.)

एल्गो ट्रेडिंग क्या है और ये कैसे काम करता ट्रेडिंग के लिए Cross है? | अल्गो ट्रेडिंग कैसे करे?

algo trading kya hai

दोस्तों आप में से बहुत से लोग ट्रेडिंग करते होंगे और ट्रेडिंग कई तरह की होती है उन्ही में से एक एल्गो ट्रेडिंग होती है पहले शेयर ट्रेडिंग के लिए Cross मार्केट में पेपर पे ट्रेडिंग होती थी डायरेक्ट शेयर को खरीदने के लिए हमें पेपर की जरुरत होती थी लेकिन फिर बाद में साल 2000 से भारत में ऑनलाइन सिस्टिम आ गयी और ट्रेडिंग के लिए Cross अब हम घर बैठे अपने मोबाइल या लैपटॉप से ट्रेडिंग करते है, लेकिन क्या आपको इसके बारे में पूरी जानकारी है कि एल्गो ट्रेडिंग क्या होती है और एल्गो ट्रेडिंग करने के फायदे क्या है अगर नही, तो आइये आज इस आर्टिकल में हम आपको एल्गो ट्रेडिंग से रिलेटेड पूरी इनफार्मेशन देते हैं.

algo trading kya hai

Image Credit: Shutterstock

Table of Contents

एल्गो ट्रेडिंग क्या होती है (What is algo Trading in Hindi)

हमारे भारत देश में शेयर मार्केट का एक लिमिटेड समय है और हर कोई शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने के लिए इतना समय नहीं दे सकता है और जब ट्रेडिंग के लिए Cross ऐसे कंडीशन मे अगर आपको शेयर बाजार को बिना समय दिए ट्रेडिंग करना हो और ऐसे मे अगर कोई ऐसा प्लेटफार्म मिल जाये जिसमे बिना आपकी ट्रेडिंग के शेयर्स को आटोमेटिक (स्वचालित) रूप से ख़रीदे और बेचे तो ये कैसा रहेगा, तो ऐसी कंडीशन के लिए ही आटोमेटिक ट्रेडिंग लाई गयी है तो रोबोटिक रूप से आपके शेयर को ख़रीदे और बेचने को ही Algo Trading कहा जाता है और एल्गो ट्रेडिंग को ही आटोमेटिक ट्रेडिंग कहते है.

ये ऐसा सॉफ्टवेयर होता है जो रूल्स बेस पर होता है जिसमे पहले से ही कोडिंग की मदद से सारी चीज़े सेट की जाती है और फिर उसके माध्यम से ही एल्गो ट्रेडिंग काम करता है इसमें हमें पहले से ही हमारे रूल्स, इंस्ट्रक्शन्स या फिर लॉजिक को सेट करना होता है और फिर इसी लॉजिक पर हमारा लैपटॉप एल्गो ट्रेडिंग में काम करता है. ये रूल्स, और इंस्ट्रक्शन्स आप अपने हिसाब से सेट कर सकते है.

Example- माना आपने एल्गो ट्रेडिंग को इंस्ट्रक्शन्स दिया कि 20 days moving एवरेज को क्रॉस करने पर हमारे 100 शेयर buy हो जाये या फिर rsi 30 के नीचे जाने से 100 शेयर को सेल किया जाये और 5 % का प्रॉफिट होने पर हमारा ट्रेड exit हो जाये.

अगर आप कुछ इस तरह से अपना इंस्ट्रक्शन्स एल्गो ट्रेडिंग को देते है तो वो आपके इस इंस्ट्रक्शन्स पर काम करता है और इससे आपका समय भी बचता है और आपको अच्छा मुनाफा भी होता है, एल्गो ट्रेडिंग की ग्रोथ में भारत में ज्यादातर ट्रेडर एल्गो ट्रेडिंग का ही यूज करके ही ट्रेडिंग करते है एल्गो ट्रेडिंग बहुत ही सुरक्षित और मुनाफा देने वाली ट्रेडिंग है.

एल्गो ट्रेडिंग कैसे करे?

एल्गो ट्रेडिंग करने के लिए सबसे पहले आपके पास किसी भी ब्रोकर का एल्गो ट्रेडिंग API होना चाहिए और उसी ब्रोकर के साथ आपका डिमैट अकाउंट होना भी जरूरी होता है. ये कुछ ब्रोकर्स है जो एल्गो ट्रेडिंग API के लिए कुछ न कुछ चार्जेज भी लेते है भारत के ये बड़े ब्रोकर्स आपको एल्गो ट्रेडिंग API प्रोवाइड करते है.

जैसे- angel broking, zerodha, upstox इत्यादि, ये ब्रोकर्स आपको एल्गो ट्रेडिंग API प्रोवाइड करते है लेकिन इनके कुछ चार्जेज भी होते है जैसे कि

zerodha – 2000 ट्रेडिंग के लिए Cross महीना

upstox – 1000 महीना

और कुछ ऐसे ब्रोकर भी होते है जो आपको एल्गो ट्रेडिंग API फ्री में प्रोवाइड करते है जिसमे angel broking है जो आपको फ्री में अल्गो ट्रेडिंग API प्रोवाइड करता है और ये ब्रोकर भारत का सबसे पुराना और अच्छा ब्रोकर है.

एल्गो ट्रेडिंग करने के फायदे क्या है?

एल्गो ट्रेडिंग करने के कुछ फायदे निम्नलिखित है-

  • एल्गो ट्रेडिंग को आप अपना काम करके भी शेयर बाजार में आटोमेटिक ट्रेडिंग कर सकते है जिसमे आपके समय की बचत होती है.
  • इसमें आप एक साथ अनलिमिटेड शेयर्स को खरीद और बेच सकते है।
  • इसमें आप एक साथ शेयर मार्केट के जितने भी स्टॉक्स को चाहे ट्रैक कर सकते है.
  • इसमें हमे ट्रेडिंग करने के लिए एनालिसिस करने की कोई जरुरत नहीं होती है क्युकी एल्गो ट्रेडिंग खुद से ही 50 दिनों का डेटा एनालिसिस करके ट्रडिंग करता है.
  • नार्मल कंडीशन में लोग शेयर मार्केट के उतरते-चढ़ते भाव को देखकर इमोशनल होकर घबरा जाते है लेकिन एल्गो ट्रेडिंग हमेशा बिना इमोशन के ट्रेडिंग करता है.

एल्गो ट्रेडिंग करने के नुकसान क्या है?

एल्गो ट्रेडिंग करने के कुछ नुकसान भी है-

  • एल्गो ट्रेडिंग एक नयी और बड़ी चीज है क्योंकि ट्रेडिंग के लिए Cross आज भी ज्यादातर ट्रेडर समय कम होने के कारण सही ढंग से ट्रेड नहीं कर पाते हैं यहां पर सिर्फ 100 में से केवल 10% ट्रेडर्स ही सक्सेस हो पाते हैं और अच्छा पैसा कमा पाते हैं.
  • एल्गो ट्रेडिंग एक कम्प्यूटर आधारित ट्रेडिंग है इसमें गलतियों को इग्नोर नहीं किया जा सकता है क्योंकि इसमें ज्यादातर गलतियां गणतीय आंकलन से लेकर कैलकुलेशन तक कही भी हो सकती हैं इसलिए यह शुरुआत में सभी के लिए allow नहीं है.
  • इसके allow करने के साथ ही इसे इस्तेमाल करने की पूरी जानकारी भी आपके पास होनी चाहिए जिससे ट्रेडर्स इसमें अच्छे से ट्रेड कर सकें. अभी तक इसमें केवल एक्सपर्ट ट्रेडर ही ट्रेड कर सकते थे लेकिन रिटेल ट्रेडर को इसकी अनुमति नहीं दी थी लेकिन अब इसे सभी के लिए ओपन कर दिया गया है आप भी एल्गो ट्रेडिंग करके अच्छा पैसा कमा सकते हैं.

इसे भी पढ़े?

आज आपने क्या सीखा?

हमे उम्मीद है कि हमारा ये (algo trading kya hai) आर्टिकल आपको काफी पसन्द आया होगा और आपके लिए काफी यूजफुल भी होगा क्युकी इसमे हमने आपको एल्गो ट्रेडिंग से रिलेटेड पूरी जानकारी दी है.

हमारी ये (algo trading kya hai) जानकारी कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताइयेगा और ज्यादा से ज्यादा लोगो के साथ भी जरुर शेयर कीजियेगा.

Cryptocurrency: बिना पैसे लगाए क्रिप्टोकरेंसी से कमा सकते हैं मुनाफा, लॉस होने पर भी मिलेंगे फ्री ट्रेडिंग के लिए Cross में 5 हज़ार रुपए

Cryptocurrency: भारत में क्रिप्टोकरेंसी को आधिकारिक रूप से लाने की तैयारी चल रही है, हालांकि देश में लाखों लोग विदेशी क्रिप्टोकरेंसी में इन्वेस्ट करते है. अगर आप को भी क्रिप्टोकरेंसी में इन्वेस्ट करने की इक्षा है तो इससे पहले ट्रेडिंग सीखने की ज़्यादा ज़रूरत है। वैसे नये भारतीय इन्वेस्टर्स के लिए क्रिप्टोकरेंसी की ट्रेडिंग सीखने के लिए एक अच्छा चांस मिला है ट्रेडिंग के लिए Cross जिसमे आप बिना पैसा लगाए ट्रेडिंग भी कर सकते हैं और लॉस होने पर आपको 5 हज़ार रुपए मुफ्त में भी मिलते हैं.

Cross tower फ्री में दे रहा 5 हज़ार रुपए

क्रिप्टोकरेंसी में जो लोग इन्वेस्टमेंट करते हैं असली फायदा उन्ही को मालूम होता है। लेकिन जिन्होंने सिर्फ इसका नाम सुना है वो इसमे पैसे लगाने से डरते हैं. इसका असली कारण क्रिप्टो का ट्रेडिंग के लिए Cross सही ज्ञान ना होना भी है। लोगों को क्रिप्टो की तरफ आर्कर्षित करने के लिए क्रिप्टो प्लेटफार्म (Cross tower) ने हाल ही में ये घोसणा की है जिसमे यूज़र्स को क्रॉसटावर पर क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेड करने के वॉलेट में 5 हज़ार रुपए मुफ्त में देगी। कंपनी ने कहा है कि इंडियन यूज़र्स बिना एक रूपए खर्च किए आराम से क्रिप्टो ट्रेडिंग सीख सकते हैं। वैसे क्रिप्टो ट्रेडिंग सीखने के लिए ये ऐसा पहला मौका है जिसमे ट्रेडिंग सीखने के अलावा आप प्रॉफिट भी कमा सकते हैं।

लॉस भी होगा को यूजर को घाटा नहीं

कंपनी ने कहा है की वो अपने यूज़र्स को वॉलेट में 5 हज़ार रुपए देंगे और इसके ज़रिये कई मुद्राओं के साथ बिज़नेस किया जा सकता है। और अगर क्रिप्टो की कीमत कम हो जाती है, तो इससे क्रॉस टावर को नुकसान तो होगा लेकिन यूजर को कोई लॉस नहीं होगा। कम्पनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विकास आहूजा का कहना है कि भारतीयों में क्रिप्टोकरेंसी को लेकर जागरूकता बढ़ रही है। क्रॉसटॉवर ऐसी सुविधा पेश कर रहा है जिससे भारतीय उपयोगकर्ता बिना खर्च के व्यापर कर सकते हैं।

कैसे मिलेंगे 5 हज़ार रुपए

क्रॉसटॉवर में भारतीय यूजर अपना पैसा लगाए बिना क्रिप्टो ट्रेडिंग कर सकता है। कंपनी की माने तो उपयोगकर्ता को क्रिप्टो में इन्वेस्ट करने के लिए क्रॉस टॉवर उनकी मदद करेगा की क्रिप्टो में निवेश करने पर हाई रिटर्न कैसे कमाया जाए। यूज़र्स को 5 हज़ार रुपए पाने के लिए KYC की प्रोसेस को पूरा करना पड़ेगा। बैंक डिटेल दर्ज करने के बाद मुफ्त क्रेडिट का दवा किया जा सकता है। और इससे मिले प्रॉफिट को विथड्रॉ भी किया जा सकता है। लेकिन कंपनी द्वारा दिए गए 5 हज़ार को आप निकाल नहीं सकते हैं वो सिर्फ ट्रेडिंग करने के ही काम में लाया जा सकता है।

3 Moving Average MA Cross with Alert Indicator For MT4

मुझे लगता है कि चलती औसत क्रॉसओवर रणनीति सबसे पुरानी और सबसे बुनियादी रणनीतियों में से एक है। आम तौर पर इस रणनीति में केवल दो मूविंग एवरेज होते हैं और एमए के क्रॉस के आधार पर ट्रेडों में प्रवेश होता है। 3 Moving Average MA Cross with Alert Indicator For MT4 हालांकि तीन मूविंग एवरेज का उपयोग करता है और इस प्रकार संभवतः उन रणनीतियों से बेहतर प्रदर्शन करेगा जो दो का उपयोग करते हैं। संकेतक आपको भ्रमित न करने के लिए मूविंग एवरेज प्रदर्शित नहीं करता है लेकिन आपको क्रॉसओवर और इस प्रकार प्रवेश सिग्नल दिखाने के लिए लाल और हरे तीर खींचता है।

Partially Automated Trading Besides Your Day Job
Alerts In Real-Time When Divergences Occur

मूविंग एवरेज क्रॉसओवर रणनीतियाँ एक ही समय में एक अलग अवधि के साथ कई एमए का उपयोग कर रही हैं। आमतौर पर, एक बहुत तेज ईएमए (लाल) होता है जो प्रवेश संकेतों और एक धीमी ईएमए (नीला) के लिए उपयोग किया जाता है ताकि समग्र प्रवृत्ति को बेहतर ढंग से पकड़ सके। हालाँकि, 3 Moving Average MA Cross with Alert Indicator For MT4 भी एंट्री सिग्नल को फ़िल्टर करने के लिए एक मध्यम अवधि (हरा) के साथ तीसरे मूविंग एवरेज का उपयोग करता है और इस प्रकार कुछ खोने वाले ट्रेडों को रोकता है।

यह रणनीति निम्नलिखित स्थितियों के पूरा होते ही लंबे सिग्नल उत्पन्न करती है। मध्यम ईएमए (हरा) धीमी ईएमए (नीला) से ऊपर होना चाहिए। यदि तेजी से ईएमए अब मध्यम ईएमए को पार कर जाता है, तो लंबे सिग्नल को ट्रिगर किया जाता है और 3 Moving Average MA Cross with Alert Indicator For MT4 लाल ऊपर की ओर तीर खींचता है। विपरीत छोटे संकेतों के लिए सच है। मध्यम मूविंग एवरेज धीमा एमए से नीचे होना चाहिए और फिर तेजी से मूविंग एवरेज इन दोनों लाइनों को पार करता है।

आप ऊपर दिए गए स्क्रीनशॉट में देख सकते हैं कि चार्ट इन सभी मूविंग एवरेज के साथ भ्रमित हो जाता है, इसलिए यह बहुत अच्छा है कि 3 Moving Average MA Cross with Alert Indicator For MT4 केवल महत्वपूर्ण क्रॉसओवर पर तीर प्रदर्शित करता है और चार्ट को अन्यथा साफ रखता है। ।

3 Moving Average MA Cross with Alert Indicator For MT4 की सेटिंग

3 Moving Average MA Cross with Alert Indicator For MT4 की सेटिंग्स सरल हैं और खुद को दोहराती हैं। तकनीकी रूप से उनमें केवल तीन मूविंग एवरेज की सेटिंग होती है और एक अलर्ट फीचर को कॉन्फ़िगर करने के लिए।

प्रत्येक एमए के लिए आप पहले अवधि चुन सकते हैं। अगली पंक्ति में आप शिफ्ट कॉन्फ़िगर कर सकते हैं और अंतिम सेटिंग मूविंग एवरेज विधि को परिभाषित करती है। एक 0 के साथ सूचक एक साधारण मूविंग एवरेज का उपयोग करता है, 1 के साथ यह एक ईएमए का उपयोग करता है, एक 2 एक स्मूथिंग मूविंग एवरेज और 3 एक रैखिक भारित एमए सेट करता है। मेरा सुझाव है कि आप इन सेटिंग्स के साथ थोड़ा प्रयोग करें और यह पता लगाएं कि कौन सा मूविंग एवरेज संयोजन आपको सबसे अधिक पसंद है।

अंतिम सेटिंग का उपयोग 3 Moving Average MA Cross with Alert Indicator For MT4 के अलर्ट फ़ंक्शन को 3 Moving Average MA Cross with Alert Indicator For MT4 ऑफ (0) और ऑन (1) के 3 Moving Average MA Cross with Alert Indicator For MT4 चालू करने के लिए किया जाता है। चालू किए गए अलर्ट के साथ, आपको हर बार एक संकेतक प्राप्त होगा कि सूचक एक तीर खींचता है, जिसका अर्थ है कि हर बार क्रॉसओवर होता है। यह सुविधा एक महान जोड़ है, क्योंकि यह आपको बहुत समय सुरक्षित कर सकती है, क्योंकि आपको पूरे दिन चार्ट के सामने नहीं रहना है।

3 Moving Average MA Cross with Alert Indicator For MT4 ट्रेडिंग

यह संकेतक, जबकि अपने दम पर शक्तिशाली है, दूसरे संकेतक के साथ संयोजन में सबसे अच्छा उपयोग किया जाता है। यह संकेतक आपको पसंद करने वाला कोई भी संकेतक हो सकता है। इस लेख के लिए मैंने लोकप्रिय एमएसीडी संकेतक का उपयोग करने का निर्णय लिया। यह उपकरण हमें विचलन खोजने में मदद कर सकता है, जो बाजार की दिशा के आसन्न परिवर्तन का एक बहुत मजबूत संकेत है।

इसलिए, इस रणनीति के लिए, हम सबसे पहले एक विचलन के विकास की प्रतीक्षा करते हैं या एक प्रविष्टि संकेत मिलने के बाद ही इसे जांचते हैं। यदि हमें एक संकेत मिलता है और पहले से विचलन था और वर्तमान मूल्य से बहुत दूर नहीं है, तो हम उसी दिशा में एक व्यापार में प्रवेश कर सकते हैं। क्योंकि हमारे पास अपनी प्रविष्टि में बढ़त जोड़ने के लिए विचलन है, व्यापार एक विजेता के रूप में समाप्त होने की संभावना है और साथ ही, जैसा कि आप तस्वीर में देख सकते हैं, ये ट्रेड बेहद बड़ी जीत का उत्पादन कर सकते हैं।

व्यापार प्रबंधन पूरी तरह से आपकी ट्रेडिंग शैली पर निर्भर करता है और आप किस चीज के साथ सहज महसूस करते हैं। लक्ष्य प्लेसमेंट के लिए एक विचार उदाहरण के लिए हमारी स्थिति के खिलाफ विचलन के लिए इंतजार करना है।

रेटिंग: 4.18
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 870